Blog ko google me rank kaise kare जाने आसान तरीके।

बहुत से बिगिनर लोग शुरू के समय में अपना खुद का ब्लॉग तो बना लेते है, लेकिन उन्हें Blog ko google me rank kaise kare जानकारी नही होती है, और ब्लॉगिंग जैसी फिल्ड को छोड़ देते है, लेकिन आज की इस पोस्ट में हम ब्लॉग को गूगल में कैसे rank कराये, इसके बारे में पूरी जानकारी देंगे।

ब्लॉगिंग भारत में ऑनलाइन पैसे कमाने का सबसे अच्छा साधन माना जाता है, लोग ऑनलाइन ब्लॉगिंग करके लाखो रुपये कमा रहे है, और यह लोग काफी सालो से ब्लॉगिंग कर रहे है, लेकिन यही काफी नही है, उन्हें अच्छी तरीके से पता है, कि ब्लॉग को गूगल में कैसे रैंक करवाना है, और जो लोग नही जानते है, आज की पोस्ट को पढ़ने के बाद उन्हें अच्छे तरीके से गूगल के अन्दर ब्लॉग को कैसे रैंक करे पता चल जाएगा।

गूगल के अन्दर अपने ब्लॉग को रैंक करवाना कोई आसान काम नही है, इसके लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है, और इसी के साथ में बहुत सारी एक्टिविटी करनी पड़ती है, जिसके बारे में हम निचे जानकारी देने वाले है, यदि आप अपने ब्लॉग को गूगल में rank करवाना चाहते है, तो आप बहुत सही जगह पर विजिट किये है।

यहा पर मै अपने एक्सपीरियंस जिसे फॉलो कारणव के बाद हर किसी की मदद से गूगल में अपने ब्लॉग को रैंक करने के कुछ तरीके शेयर करूँगा, जिसे फॉलो करने के बाद हर किसी का ब्लॉग गूगल के प्रथम पेज पर रैंक करने लगेगा, तो आईये बिना समय को गंवाए, ब्लॉग को गूगल में रैंक करवाने के तरीके के बारे में जानेंगे।

blog-ko-google-me-rank-kaise-kare

Blog ko google me rank kaise kare ब्लॉग को गूगल में कैसे रैंक करे

वैसे तो गूगल के 200 से भी ज्यादा रैंकिग फेक्टर है, लेकिन क्या आप जानते है, कोई भी इन सभी को फॉलो नही करता है, लोग अपने कुछ सेक्रेट टिप्स व एक्स्पिरियंस के दम पर गूगल में रैंक करते है, और आज हम इस पोस्ट की मदद से इन सभी सेक्रेट टिप्स के बारे में जानकारी देंगे।

इसलिए आप सभी निवेदन है, आप लोग इस ब्लॉग पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़े, नही तो आप ब्लॉग को गूगल में rank करने के बारे में जानकारी मिस कर जायेंगे।

 इनके बारे में भी जाने-

ब्लॉग पोस्ट के tittle पर फोकस करे

गूगल के अन्दर अपने ब्लॉग की पोस्ट को रैंक करवाने के लिए आपको अपने ब्लॉग के टाइटल पर विशेष ध्यान रखना होगा, गूगल के मुताबित आपके ब्लॉग का टाइटल 70 word से अधिक नही होना चाहिए, हमेशा अपने ब्लॉग का टाइटल उजर फ्रेंडली रखे, ताकि जब भी कोई यूजर गूगल में जाकर सर्च करे तो सबसे पहले आपकी वेबसाइट दिखाई दे, क्योकि गूगल को ऐसे ब्लॉग ज्यादा पसंद होते है, जो उनके हिसाब से काम करते है।

आप जिस भी टॉपिक पर ब्लॉग पोस्ट लिखे, तो यह पक्का करे, की कम से कम आपके ब्लॉग में टाइटल 4 से 6 बार आये, इससे गूगल को समझ में आ जाएगा, की आपका ब्लॉग पोस्ट किस बारे में है, तभी आपका ब्लॉग गूगल रैंक करेगा, और गूगल में अपने ब्लॉग से सम्बंधित पोस्ट को देखे, और इसी के आधार पर अपने ब्लॉग का टाइटल को यूजर फ्रेंडली रखे।

जब आपको लगे, की आपका यह tittle अच्छा नही तो आप अपने पोस्ट को उपडेट कर दे, इससे आपके ब्लॉग की अथोरिटी बढाती है, और ईसिस के साथ मे आपके ब्लॉग का CTR बढ़ जाएगा, जिससे आपका ब्लॉग गूगल में रैंक करने लग जाएगा।

यदि आपका ब्लॉग वर्डप्रेस पर है, तो आपको ज्यादा टेंशन लेने की तरुरत नही है, यहा पर केवल Rank math plugin का इस्तेमाल करना होगा, और आप यहा से अपने ब्लॉग के पोस्ट के टाइटल को यूजर फ्रेंडली बना सकते है।

parmalink का इस्तेमाल करके गूगल में rank कैसे कराये, 

जब भी आप parmalink का इस्तेमाल करे, तो यह पक्का करे, की वह कम से कम हो, क्योकि आपको कम से कम 60 से 75 word में बनाना है, और एक बात का याद रखे की आपके parmalink में आपका फोकस कीवर्ड जरुर होना चाहिए, इससे गूगल व यूजर दोनों को पता चलेगा की आपका पोस्ट किस बारे में है।

लोग अपने parmalink को ज्यादा रखते है, जिसका कोई मतलब नही है, क्योकि parmalink में ज्यादा word रखने से वह गूगल में show ही नही करेगा, तो ज्यादा रखने का कोई मतलब नही होता है।

आपके एक यूजर फ्रेंडली URL बनाना है, जिसके अन्दर आपका main keyword हो, और अपने parmalink में stop keyword इस्तेमाल करने से बचे, ऐसे keyword को गूगल इग्नोर करता है, जिससे आपकी ब्लॉग पोस्ट गूगल में कभी भी नही रैंक करेगी।

और पढ़े- Blog me URL Kaise Banaye। wordpress में URL Edit कैसे करें।

 

Meta Discription का इस्तेमाल करे

आप जब भी ब्लॉग पोस्ट लिखे तो एक अच्छा सा Meta Discription लिखे, जिसके कम से कम 150 word हो, और याद रखे की Meta Discription में focus keyword जरुर है, ताकि गूगल व यूजर दोनों को अच्छे से समझ में आ जाए, कि आपका ब्लॉग पोस्ट किस टॉपिक पर है।

Meta Discription एक ऐसा पॉइंट होता है, जंहा पर यूजर की नजर सबसे पहले पड़ती है, यूजर टाइटल देखने के बाद तुरंत Meta Discription पर ध्यान देता है, और यह पक्का करता है, की क्या यह पोस्ट सच में उस टॉपिक पर है।

जिसे वह गूगल में सर्च में सर्च किया है, इसलिए अपने ब्लॉग के Meta Discription में अपने focus keyword का जरुर इस्तेमाल करे, इसके आपके ब्लॉग का CTR बढेगा, और आपकी ब्लॉग पोस्ट का गूगल में रैंक करने का चांस काफी हद तक बढ़ जाएगा।

वेबसाइट की स्पीड पर ध्यान दे-

गूगल के एक update के बाद जिस वेबसाइट का लोडिंग टाइम ज्यादा होता है, वह गूगल में rank नही करती है, क्योकि जब कोई यूजर किसी क्युरी को सर्च करेगा, और आपका ब्लॉग उसे दिखाई देगा, और वह उसपर क्लिक करके जानकारी read करने की कोशिश करेगा।

ऐसे में आपके ब्लॉग का लोडिंग टाइम कम रहेगा, तो यूजर तुरंत back button ;press कर देगा, जिससे आपके ब्लॉग का बाउंस रेट बढ़ जाएगा, और आपकी रैंकिंग डाउन हो जायेगी, इसलिए इन सभी परेशानियों से बचने के लिए आप एक अच्छी कंपनी की होस्टिंग इस्तेमाल करे, ताकि आपके ब्लॉग की स्पीड अच्छी हो।

अच्छी होस्टिंग इस्तेमाल करने के कई सारे फायदे है, एक तो आपकी स्पीड बढ़ जायेगी, और यह आपके ब्लॉग या वेबसाइट का सेक्योर रखेगी, ताकि आपके ब्लॉग को कोई हैक ना कर पाए।

ब्लॉग को google search consol में ad करे

अपने ब्लॉग को गूगल सर्च कंसोल में जरुर ad करे, ताकि गूगल को पता चल सके, की यह वाकई आपका हो ब्लॉग है, और इसके कई सारे फायदे है, यहा से आप अपने keyword को track कर सकते है, की वह कौन सी पोजीशन पर है, और कितने इम्प्रेशन आ रहे है।

बहुत से लोग अपने ब्लॉग को गूगल सर्च कंसोल में Ad नही करते है, और बाद में कमेंट करते है, की उनका ब्लॉग गूगल में rank नही कर रहा है, यदि आपको इस समय अपने ब्लॉग को गूगल में रैंक करवाना है, तो आपके गूगल के हिसाब से काम करना होगा।

आपको वही काम करना है, जो गूगल कहता है, या गूगल पसंद करता है, और एक बात का ध्यान रखे की जब भी आप अपने ब्लॉग पोस्ट को लिखे तो सबसे पहले पोस्ट को पब्लिश करने के तुरंत बाद अपने ब्लॉग पोस्ट के URL को गूगल सर्च कंसोल में जरुर Ad करे।

इससे आपका ब्लॉग गूगल में जल्दी से इंडेक्स हो जाएगा, बहुत से लोग मुझसे पुछते है, कि सर मेरे पोस्ट गूगल में इंडेक्स नही हो रहे है, जो की यही , कारण होता है, की वह अपने ब्लॉग के URL को गूगल सर्च कंसोल में Ad में नही करते है, इसलिए यदि आपको अपने ब्लॉग को गूगल के अन्दर रैंक करवाना है, तो अपने ब्लॉग को गूगल के सर्च कंसोल में सबमिट जरुर करे।

Sitemap का इस्तेमाल करे

ब्लॉग को गूगल में रैंक करने के लिए sitemap जरुर Ad करे,  और हर एक ब्लॉग में sitemap का होना आवश्यक है, क्योकि इसके भी कई सारे फायदे है, आपको बता दे, फ्लिपकार्ट व अमोज़ोन जैसी वेबसाइट भी sitemap का इस्तेमाल करती है, इससे ब्लॉग पोस्ट गूगल में जल्दी से इंडेक्स होते है।

किसी भी वेबसाइट में Sitemap को AD करने के लिए आपको अपने ब्लॉग को गूगल सर्च कंसोल में सबमिट करना है, और इसके बाद वाही निचे साइड में आपको Sitemap का ऑप्शन दिखाई देगा, इसमें आपको अपने Sitemap को Ad कर देना है।

यदि आपका ब्लॉग wordpress पर है, तो आप अपने ब्लॉग पर rank math plugin इंस्टाल कर सकते है, यह आपके ब्लॉग पर आटोमैटिक Sitemap Create कर देगा।

User friendly ब्लॉग पोस्ट लिखे

गूगल में अपने ब्लॉग पोस्ट को rank करने के लिए आपको SEO friendly आर्टिकल लिखना जरुरी है, तभी जाकर आपका ब्लॉग गूगल में rank करेगा, जब भी आप किसी टॉपिक पर ब्लॉग लिखे तो यूजर को ध्याम में रखकर लिखे, और उस टॉपिक से सम्बंधित सभी प्रकार की जानकारी अपने ब्लॉग पोस्ट में शेयर करे।

ताकि जब भी यूजर आपके ब्लॉग पर आये, तो वह कुछ समय तक आपके ब्लॉग पर रुके, इससे गूगल को एक सिग्नल जाएगा, की आपका ब्लॉग पोस्ट एक अच्छा ब्लॉग है, तब जाकर गूगल आपके ब्लॉग को अपने सर्च रिजल्ट में rank करना चालु करेगा।

पेशेंश जरुर रखे-

कई लोग ऐसे भी है, जो गूगल पर अपना ब्लॉग बनाने के तुरंत बाद यह सोचने लगते है, की मेरा ब्लॉग गूगल में रैंक क्यों नही कर रहा है, और मै अपने ब्लॉग से पैसे क्यों नही कमा प रहा हूँ, लेकिन मै आप लोगो को बता दू, यदि आपका ब्लॉग पोस्ट गूगल में रैंक कर भी जाएगा, तो भी उसे आउटरैंक करने के लिए लाखो लोग पड़े हुए है।

इसके लिए आपको अपने ब्लॉग पोस्र्ट को अपडेट करते रहना है, और इसी के साथ में अपने ब्लॉग पोस्ट से सम्बंधित टॉपिक को कवर करके अपडेट करना है, इससे आपके ब्लॉग की रैंकिंग गूगल में बरकरार रहेगी, और इसी के साथ में आपको पेशेंस रखने की जरुरत है।

क्जब आप अपने ब्लॉग को शुरु के समय में स्टार्ट करते है, तो गूगल उसे कुछ समय तक अपने sand box पीरियड में रखता है, क्योकि गूगल ऐसे नए ब्लॉग को जल्दी रैंक नही करता है, क्योकि अधिकतर नए ब्लॉग स्पैमिंग करते है, इसलिए गूगल नए ब्लॉग को रैंक करने के लिए कम से कम 6 महीने का समय लेता है।

इसलिए यदि आप ब्लॉगिंग की फिल्ड में अपना कैरियर आजमा रहे है, तो आपको एक बात का ध्यान रखना जरुरी है, की आपको अपने ब्लॉग पर क्वालिटी पोस्ट पब्लिश करना है, और उसे समय-समय में अपडेट करते रहना है, इससे आपका ब्लॉग गूगल में धीरे-धीरे रैंक करने लगेगा, और आपको शुरू के समय में ट्राफिक आने लगेगा।

ब्लॉग पोस्ट को सोशल मिडिया पर शेयर करे

गूगल के एक अपडेट के बाद आपके ब्लॉग की अथोरिटी सोशल मिडिया पर भी दिखनी चाहिए, इससे आपके ब्लॉग की अथोरिटी बढ़ेगी, और गूगल के sand box से आपकी वेबसाइट निकल जाएगी, जिसके बाद आपके ब्लॉग पर ट्राफिक आने के चांस काफी हद तक बढ़ जायेगे।

 

ब्लॉग से सम्बंधित पूछे जाने वाले प्रश्न-

  1. ब्लॉग पर ट्राफिक लाने का आसान तरीके क्या है?

    Ans- यदि आप अपने ब्लॉग पर ट्राफिक लाना चाहते है, तो आपको सबसे पहले पेशेंस रखना जरुरी है, और इसी के साथ में आपको मेरे द्वारा लेखे गए ब्लॉग पोस्ट को फॉलो करना होगा।

  2. ब्लॉग पोस्ट गूगल में कितने दिन में Rank करती है?

    Ans- गूगल के अन्दर ब्लॉग पोस्ट को रैंक करने में कम से कम 6 महीने का समय लगता है, यह कहना थोडा मुश्किल होगा, क्योकि यह आपके टॉपिक व कॉम्पटीशन पर निर्भर करता है।

  3. गूगल के Sand box से वेबसाइट कितने दिन बाद निकलती है?

    Ans- इसके लिए आपको कम से कम 6 महीने का समय देना पड़ेगा, और अपने ब्लॉग पर निरंतर काम करते रहना होगा, कभी-कभी यह समय 6 महीने से लेकर 12 महीने तक भी जा सकता है।

  4. ब्लॉगिंग में success होने के लिए क्या करे?

    Ans- ब्लॉगिंग में success होने के लिए आपको पेसेंस रखना जरुरी है, और कम से कम 1 साल का समय देना है, और अपने ब्लॉग पर निरंतर लो कॉम्पटीशन कीवर्ड को टारगेट करके काम करते रहना है।

आज क्या सिखा-

आज के इस ब्लॉग पोस्ट की मदद से हमने आप सभी को Blog ko google me rank kaise kare इसके बारे में जानकारी दी है, यदि आपका इस ब्लॉग पोस्ट से सम्बंधित कोई भी प्रश्न है, तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करे, तथा अन्य किसी भी जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग www.mysearchindia.com को बुकमार्क करना भूले।

क्योकि यहाँ पर ब्लॉगिंग से सम्बंधित सभी प्रकार की जानकारियाँ शेयर की जाती है, और इसी के साथ में ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए इसके बारे में भी जानकारी साझा की जाती है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!